Dalit Chetna : Kavita/दलित चेतना : कविता

Rs.300/-

Isbn: 81-903785-6-2

Writer: Ramnika Gupta/रमणिका गुप्ता

Year: 1996/2012

" अब मूरख नहीं बनेंगे हम दलित कविता संग्रह: सं रमणिका गुप्ता प्र. वर्ष 1997, मूल्य 40/- रुपये, पेपर बैक 25/- हिंदी दलित-साहित्य के प्रतिनिधि हस्ताक्षरों में से एक रमणिका गुप्ता के शब्द-कर्म का विकास बिहार के कोयलांचल में दलितों, आदिवासियों और महिलाओं के लिए लड़े गए संघर्ष के दौरान हुआ है। तीस वर्षों तक चले इस संघर्ष में उत्पन्न अनुभवों को ही प्रस्तुत कविता-संकलन में शब्द दिए गए हैं। जिन पाठकों एवं आलोचकों को भोगे हुए यथार्थ की कविताएं पढ़ने की इच्छा है, उनके लिए यह संकलन एक अनिवार्य पुस्तक है। प्रस्तुत संकलन दलितों को मानसिकता के स्तर पर पालतू बनाए रखने के विचारधारात्मक षड्यंत्रा को बेनकाब करता है। दलित-मुक्ति आंदोलन के ये गीत समाजशास्त्रिायों एवं सामान्य पाठकों के लिए उपयोगी भी हैं, प्रेरक भी "