Dalit Prashn Samvaad aur utopia/दलित प्रश्न संवाद और यूटोपिया

Rs.250/-

Isbn: 81-89-537-86-5

Writer: Ramnika Gupta/रमणिका गुप्ता

Year: 2010

" दलित प्रश्न: संवाद और यूटोपिया’ रमणिका गुप्ता के समाजधर्मी, प्रतिबद्ध और दलित-दृष्टि से लिखे गए संपादकीयों का सुव्यवस्थित रूप है। हम कहां जाएं. .. क्या करें... किससे फरियाद करें अभी बीस साल पहले तक दलित समाज के लिए ये प्रश्न महाप्रश्न थे। पर आज इस स्थिति में बदलाव आया है। वह पराश्रित, परामुखापेक्षी होने की बजाए आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ा है। यह आत्मनिर्भरता क्यों आई है? क्या राजनीतिक चेतना ही आर्थिक आत्मनिर्भरता का कारण बनती है? रमणिका जी ने संवाद का रास्ता खुला रखा है। प्रतिपक्षियों से भी संवाद जारी रखा। यह संवाद एक यूटोपिया के निर्माण में सहायक बनता है। यही लोकतांत्रिकता है और है रमणिका गुप्ता का यूटोपिया। इसी संवाद और यूटोपिया का परिणाम है यह पुस्तक ‘दलित प्रश्न संवाद और यूटोपिया’। "