Bharat ki krantikari Aadivasi aouraten/भारत की क्रांतिकारी आदिवासी औरतें

Rs.90/-

Isbn: 978-81-89022-01-3

Writer: Ramnika Gupta/रमणिका गुप्ता

Year: 2014

" पुरुषसत्तात्मक समाज में महिलाओं की प्रतिभा को नज़रअंदाज़ किए जाने की प्रवृत्ति हर काल में मौजूद रही है। आदिवासी औरतें पुरुषों के साथ कंधे-से-कंधा मिला कर भागीदारी करती हैं। विडम्बना यह है कि उस सामूहिक भागीदारी को भी इतिहासकारों ने दर्ज न करके इतिहास के साथ विश्वासघात किया है। इस भेदभावपूर्ण नीति और बौद्धिक बेइमानी का जवाब सिर्फ इतिहास के उन विस्मृत पृष्ठों को ढूंढकर निकाल लाने के जरिए ही दिया जा सकता है। इसी भावना के तहत ही रमणिका फाउंडेशन ने वासवी किड़ो की इस शोधपूर्ण पुस्तक को प्रकाशित करने का निर्णय लिया। वासवी ने सिर्फ संदर्भ पुस्तिकाओं के आधार पर तथ्यों का संकलन नहीं किया बल्कि संबंधित गांवों में जाकर बड़े-बुजुर्गों और वीरांगनाओं के परिजनों से मिलकर जानकारियां एकत्र की हैं। इस पुस्तक में आदिवासी औरतों के व्यक्तिगत बलिदान के साथ-साथ, उनकी सामूहिक भागीदारी व नेतृत्त्व की क्षमता को भी शामिल किया गया है, जो इस पुस्तक को दूसरों से भिन्न बनाती है। "