Aadim Se Aadmi tak/आदिम से आदमी तक

Rs.200/-

Writer: Ramnika Gupta/रमणिका गुप्ता

Year: 1997

" बिहार के कोयलांचल में मजदूर-संघर्ष से उत्पन्न रमणिका गुप्ता की ओजपूर्ण लेखनी से प्रस्तुत इस काव्य-खण्ड में विश्व इतिहास की एक झलक उपस्थित होती है। तीस वर्षों तक समाज के दीन-हीन शोषित वर्गों के लिए लड़े गए संघर्ष ने लेखिका को अनुभव-समृद्ध बनाया तो उनके विदेश परिभ्रमण ने उन्हें एक अंतर्राष्ट्रीय दृष्टि प्रदान की है। इसी अनुभव एवं दृष्टि का विरल संगम है, ‘आदिम से आदमी तक’। मूल रूप से कविता होते हुए भी इतिहास-लेखन की भूमि पर यह रचना हस्तक्षेप करती है। किंतु यह इतिहास-लेखन की धरती पर छोड़ी गई कोई नदी नहीं, अपितु एक जल-प्रपात है। इतिहास तथा इतिहास लेखन मैं किस तरह आम आदमी को दर-किनार किया गया, इसकी पड़ताल करती हुई यह कृति केवल आम आदमी की ही बात करती है। पाठकों को इस रचना में आदमी और समाज के इतिहास का विकास तो नज़र आएगा ही, साथ ही मैक्सिको की दंत-कथाएं, रोम तथा नार्वें की शिल्प-कला, वॉन गॉन की पेंटिंग, मिस्र के पिरामिडों की अबूझ पहेलियां, अमेरीका के रैड इण्डियन्स के बर्बर संसार की कथाएं और उनके काले-काले रहस्य भी मिलेगा। "