Welcome to Ramnika Foundation


उद्देश्य

रमणिका फाउंडेशन के उद्देश्य

  • यह पूर्णतः धर्मनिरपेक्ष, गैर-राजनीतिक तथा अव्यावसायिक है। यह विचार-स्रोत के रूप में कार्य करेगा।
  • यह न्याय तर्कमूलक, वस्तुपरक और वैज्ञानिक सोच पर आधारित नयी सामाजिक संरचना के लिए प्रयासरत रहेगा।
  • यह निर्धारित दबे, कुचले एवं पिछड़े तबके में व्यक्तित्वपरक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक परिवर्तन की चेतना एवं मानवीय गरिमाबोध, एवं स्वाभिमान का विकास करेगा।
  • यह ज्ञान के विविध क्षेत्रों और आधुनिक चिंतनधारा के प्रचार-प्रसार द्वारा लक्षित तबके एवं पूरे समाज में जागृति लाएगा।
  • यह मानवीय संसाधन के विकास को मद्देनजर रखते हुए तदनुसार प्रशिक्षण प्रदान कर, सामाजिक, शैक्षणिक, साहित्यिक तथा सांस्कृतिक मुद्दों पर कार्यशालाएं, गोष्ठियां, संवाद आयोजित करेगा तथा लेखमालाएं तैयार करवाएगा ताकि लोगों में विकास के लिए स्पर्धा, तार्किकता, दृष्टिगत बदलाव, स्वाभिमान, प्रभावकारिता एवं दक्षता का भाव जगे। इस श्रेणी के साहित्य को दस्तावेजी रूप देकर, संकलन-संचयन के लिए केन्द्र स्थापित करेगा।
  • यह साहित्य कला एवं शिल्प के विकास हेतु प्रकाशन, कार्यशाला, परिचर्चा, प्रदर्शनी, प्रशिक्षण, विशेष साहित्य लेखन, विशेष प्रोजेक्ट एवं शोध करवाकर, पुस्तकालय एवं संग्रहालय स्थापित करेगा। विशेष विषयों पर पुस्तक लेखन हेतु आर्थिक सहायता एवं सुविधाएं देगा।
  • इसका लक्ष्य महिलाओं और बच्चों के अधिकारों एवं उनकी सामाजिक स्थिति को ऊपर उठाने हेतु संघर्ष करना एवं सरकारी, गैर-सरकारी योजनाओं का कार्यान्वयन एवं कानूनी सहायता के लिए शिविर लगाकर जानकारी देना भी होगा।
  • यह शारीरिक एवं मानसिक स्तर पर विकलांग बच्चों के लिए कार्यक्रमों का कार्यान्वयन करेगा।
  • यह हिन्दी भाषा साहित्य के विकास हेतु अनुवाद की योजना बनाकर -
    • हिन्दी की रचनाओं का हिन्दीतर भाषाओं में
    • हिन्दीतर भाषाओं से हिन्दी में अनुवाद कराएगा।
    • यह साक्षरता अभियान की योजनाएं बनाकर उन पर कार्यान्वयन करेगा।
  • संस्थापिका के जीवन एवं साहित्य के संयोजन हेतु -
    • प्रकाशन
    • संस्थापक सदस्य के नाम पर साहित्य और पत्राकारिता से संबद्ध तीन वार्षिक पुरस्कार प्रदान करेगा ।
    • संस्थापक सदस्य की रचनाओं का हिन्दीतर भाषाओं में अनुवाद एवं कृतित्व और व्यक्तित्व पर शोध करवाएगा ।
  • समाज के हाशिये पर बसे लोगोंµखास तौर पर अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लोगों को शिक्षित कर उन्हें सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक एवं मनौवैज्ञानिक विषमता से मुक्त कराने के कार्यक्रम चलाएगा।
  • विभिन्न प्रकार के शोषण, अत्याचारों एवं भेदभावपूर्ण व्यवहारों के बारे में सर्वेक्षण एवं शोध करवाकर पीड़ित लोगों को राहत एवं पुनर्वास के कार्यक्रमों को लागू कराएगा
  • शोषण और दमन की रोकथाम के लिए उचित कानूनी सहायता उपलब्ध कराएगा, कार्यनीति तथा समकालीन मुद्दों पर केन्द्रित साहित्य का प्रकाशन एवं प्रचार-प्रसार करेगा।
  • निर्धारित तबकों एवं महिलाओं (भूमिहीन एवं खानाबदोश तथा बाल मजदूरों सहित) की समस्याओं एवं उनके अधिकारों के लिए कानूनी सहायता प्रदान करेगा।
  • आम जनता एवं समाज के हाशिये पर बसे तबकों, महिलाओं और बच्चों के लिए चिकित्सकीय सहायता एवं राहत की योजना का क्रियान्वयन करवाएगा।
  • सभी प्रकार की सामाजिक बुराइयों एवं साम्प्रदायिक भेदभावों को मिटाने के लिए यह न्यास समाज सुधारकों, क्रांतिकारियों, समाजशास्त्रियों एवं दार्शनिकों के साहित्य और चिंतन के उन्नयन के माध्यम से एवं नियोजित रूप से कार्यक्रमों की योजना तैयार करके, कार्यक्रमों को योजनाबद्ध रूप से लागू करेगा।